Tuesday, April 23

भतीजे अक्षय यादव के खिलाफ फिरोजाबाद से चुनाव लड़ेंगे शिवपाल

प्रगतिशील समाजवादी पार्टी के प्रमुख शिवपाल सिंह यादव ने शनिवार को बड़ा ऐलान किया. इटावा में शिवपाल यादव ने कहा कि वह फिरोजाबाद लोकसभा सीट से चुनाव लड़ेंगे. फिलहाल, इस सीट से उनके चचेरे भाई और सपा के राष्ट्रीय महासचिव रामगोपाल यादव के बेटे अक्षय यादव सांसद हैं. शिवपाल के इस ऐलान के बाद सबसे बड़ा झटका सपा-बसपा गठबंधन को ही लगा है. शिवपाल के इस ऐलान के बाद रामगोपाल यादव ने अपनी प्रतिक्रिया दी. उन्होंने कहा कि लोकतंत्र में किसी को कहीं से भी लड़ने का अधिकार है. शिवपाल लड़े, मुझे ऐतराज नहीं है.

इटावा में शिवपाल ने कहा मायावती अखिलेश की बुआ कैसे हो गई? जब मुलायम उनके भाई नहीं हुए, शिवपाल उनके भाई नहीं हुए, तो मायावती, अखिलेश की बुआ कैसे हो गई? जो भाई हुए बीजेपी के लोग उनके साथ मायावती ने कितना धोखा किया यह सभी जानते हैं. उन्होंने कहा कि 3 फरवरी को फिरोजाबाद में होनी वाली रैली के दौरान मैं वहां से चुनाव लड़ने का ऐलान करूंगा.

बबुआ ने बाप तो बुआ ने भाइयों को दिया धोखा

मंच से शिवपाल ने अखिलेश और मायावती पर हमला बोलते हुए कहा कि हमने ओर नेता जी ने मायावती को बहन नहीं बनाया, फिर यह अखिलेश की कैसे बुआ हो गई, अब अखिलेश को बबुआ बना लिया, बबुआ ने अपने बाप को धोखा दिया और बुआ ने अपने भाइयों (कलराज मिश्र ओर मोदी राखी बांधी) को धोखा दिया.

चाचा-भतीजा आमने सामने होंगे

प्रोफेसर रामगोपाल यादव ने कहा कि अक्षय तो पहले से सांसद हैं. अब सामने कौन लड़ता है, कौन नहीं लड़ता है इसमें हम क्या कह सकते हैं. हमें कोई एतराज नहीं है. लोकतंत्र में हर आदमी को अपना चुनाव लड़ने का हक होता है. इसमें हम क्या प्रतिक्रिया दें. चाचा – भतीजा आमने सामने होंगे.

बाप को बाप नहीं समझा, चाचा को चाचा नहीं

चाचा शिवपाल यही नहीं रुके उन्होंने कहा कि मैंने अखिलेश के लिए पढ़ाई से लेकर क्या क्या नहीं किया, लेकिन ऐसे लोगों पर कैसे भरोसा किया जाए, जिसने बाप को बाप नहीं समझा और मुझे चाचा, इसलिए मैंने नई पार्टी बनाई. हमारा यह सफर मुश्किलों भरा है, लेकिन मुझे इस आग के दरिया में जाना है और तप कर निकलना है.

हमारी पार्टी से घबराए लोग गठबंधन कर रहे हैं

शिवपाल लगातार सपा और बसपा के गठबंधन की आलोचना कर रहे हैं. कानपुर में उन्होंने कहा कि लोग हमारी पार्टी से इतने घबराए हुए हैं कि वह गठबंधन कर रहे हैं. उन्होंने कहा कि सबसे ज्यादा सपा के नेताओं ने धोखा दिया है. रामगोपाल के पूर्वांचल में पीटने वाले बयान का जिक्र करते शिवपाल ने कहा कि वे बड़े भाई हैं. कुछ भी कह सकते हैं, लेकिन आज तक उन्हें कोई पीट नहीं पाया.

कैसे प्रोफेसर हैं, जो गलत काम करवाते हैं

रामगोपाल पर तंज कसते हुए कहा कि वे कहे तो प्रोफेसर जाते हैं लेकिन कैसे प्रोफेसर हैं ये पता नहीं. कब्जा से लेकर गलत काम तक करवाते हैं. उन्होंने कहा कि सपा पहले बहुत बड़ी पार्टी थी. अब कुछ नहीं है. उन्होंने कहा कि आगामी लोकसभा चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन तो अच्छा रहेगा ही, 2022 में वह अच्छे अच्छों की हवा खराब कर देंगे.

कांग्रेस के साथ गठबंधन कर सकते हैं शिवपाल

पिछले दिनों शिवपाल सिंह यादव ने कहा कि वह आगामी लोकसभा चुनाव में कांग्रेस से गठबंधन करने को तैयार हैं. अभी हमारी बात तो नहीं हुई है, लेकिन जितनी भी सेकुलर पार्टी हैं, जिसमें से एक कांग्रेस भी है, अगर कांग्रेस हमसे गठबंधन के लिए संपर्क करेगी तो हम बिल्कुल तैयार हैं. अंदरखाने खबर है कि प्रियंका की लॉन्चिंग के बाद अब कांग्रेस यूपी में नए गठबंधन को शक्ल देने की कवायद में लग गई है. शिवपाल यादव से संपर्क किया जा सकता है. इसके अलावा बीते दिनों निषाद पार्टी के नेताओं की कांग्रेस नेताओं से मुलाकात की भी खबर थी.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *